Offer

गद्य विधा की जानकारी (online)Gadya Vidha

गद्य विधा
गद्य विधा

गद्य विधा  संबंधी महत्वपूर्ण जानकारी : 

आधुनिक काल के आरंम्भ में ही पद्य के साथ -साथ एक नई विधा उभरी ,जिसे गद्य का नाम दिया गया | इस विधा के अंतर्गत नाटक एकांकी ,उपन्यास ,निबंध ,जीवनी संस्मरण ,रेखाचित्र आदि का विकास हुआ जो  पाश्चात्य दृष्टिकोण से प्रभावित दिखाई पड़ता है | इन विधाओं की संक्षिप्त जानकारी कुछ  इस प्रकार है -
► . नाटक क्या है ?  
    नाटक अनुकरण की एक स्वाभाविक अभिव्यक्ति है ,जो अपने कलात्मक उत्कर्ष तथा सहज स्वाभाविक चित्रण के कारण दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित करती है | यह दो प्रकार का होता है :दृश्य काव्य ,श्रव्य काव्य | 
कविता , कहानी ,उपन्यास आदि श्रव्य काव्य के अन्तर्गत आते हैं ,जबकि नाटक दृश्य काव्य के अन्तर्गत | 
नाटक के तत्व : नाटक  के तत्व कुछ इसप्रकार हैं _कथावस्तु ,पात्र ,संवाद ,अभिनेयता ,देशकाल व वातावरण ,संकलनत्रय ,शैली ,रस ,उद्देश्य | 
► . एकांकी क्या होती है ? 
     किसी मार्मिक घटना को एक ही अंक में अधिक से अधिक प्रभावशाली रूप देना ही एकांकी कहलाता है | इसमें एक घटना होती है और वह घटना नाटकीय कौशल से कौतूहल का संचय करते हुए चरम सीमा तक 
पहुंचती  है |
एकांकी के तत्व : कथा वस्तु ,पात्र ,संकलनत्रय ,संघर्ष तथा द्वंद्व ,भाषा शैली ,अभिनेता ,प्रभाव व उद्देश्य | 
► . निबंध क्या है ? 
      गद्य की वह विधा जिसमें विचारों को भली भांति बांध कर एक क्रम से प्रस्तुत किया जाये ,वह निबंध का रूप कहलाता है | 
निबंध के तत्व : गद्य रचना , व्यक्तित्व की छाप ,पूर्णता ,रोचकता ,भावुकता ,अनौपचारिकता  | 
► . संस्मरण क्या है ? 
     जीवन की किसी महत्वपूर्ण घटना का वर्णन संस्मरण कहलाता है | लेखक किसी घटना अथवा दृश्य की अपने मन पर पड़ी छाप को भावुकता से तन्मय होकर लिखता है ,जिससे उसमें सरसता ,मधुरता और मार्मिकता का गुण झलकने लगता है |
संस्मरण के तत्व : अतीत ,यथार्थ अनुभव ,वैयक्तित्ता ,शैली ,चित्रोपमयता | 
►. यात्रावृतान्त क्या है ? 
    यात्रा संबंधी रचनाओं को अपने शब्दों में अभिव्यक्त करना यात्रा वृतांत होता है | 
► . रेखाचित्र क्या है ? 
    इसमें   किसी व्यक्ति ,स्थान ,पदार्थ  व  भावमयता को भिन्न -भिन्न रेखाओं के माध्यम से प्रस्तुत किया जाता है | 
► . जीवनी क्या है ? 
    जीवनी में अन्य विधाओं के समान कल्पना के लिए कोई स्थान नहीं होता | उसमें यथार्थपरक घटनाओं  का ही वर्णन  है  के बाह्य एवं आंतरिक दोनों प्रकार के व्यक्तित्व का सम्मिश्रण  होता है |
जीवनी के तत्व : तथ्यों की पूर्ण जानकारी ,तटस्थता ,कलात्मकता |  

►रिपोर्ताज क्या है ? 
      सामान्य रूप से किसी भी घटना का यथातथ्य ऐसा वर्णन ,जो पाठक को प्रभावित करने की क्षमता रखता हो ,रिपोर्ताज कहलाता है | 



















Previous
Next Post »

Thanks for your comment. ConversionConversion EmoticonEmoticon