Offer

Mother's Day -13 May : ( मातृ दिवस )

Mother's Day (13 May )( मातृ दिवस )

ममता ,प्यार और बलिदान का अन्य रूप माँ है | माँ , एक ऐसा शब्द , जिसमें पूरा ब्रह्माण्ड समाया  हुआ है | परमात्मा ने धरती पर अपने अस्तित्व की मौजूदगी माँ रूप में ही प्रगट की है | माँ जब पहली बार बच्चे को अपनी गोद  में लेती है तो जैसे सारी  कायनात ही उसे मिल जाती है ,वह अपनी नौ महीने के इन्तजार और प्रसव पीड़ा को पल में भूल जाती है | दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण रिश्ता माँ का ही होता है ,माँ का कर्ज़ संसार का कोई भी व्यक्ति नहीं उतार सकता, मगर उसको सम्मानित करने के लिए 365 दिनों में से एक दिन विशेष रूप में मना कर उसके लिए अपना आदर भाव  प्रकट किया जा सकता है | कुछ इसी भाव को प्रकट करने के लिए ही मातृ दिवस मनाया जाता है |

ਮਾਂ ਹੁੰਦੀ ਏ ਮਾਂ ਓ ਦੁਨੀਆਂ ਵਾਲਿਓ ,
ਮਾਂ  ਦੀ ਪੂਜਾ ਰਬ ਦੀ ਪੂਜਾ ,
ਮਾਂ ਤਾਂ ਰਬ ਦਾ ਨਾਮ ਹੈ ਦੂਜਾ,
ਮਾਂ ਹੀ ਰਬ ਦਾ ਨਾਂ ਓ ਦੁਨੀਆਂ ਵਾਲਿਓ ,
ਮਾਂ ਹੁੰਦੀ ਏ ਮਾਂ ਓ ਦੁਨੀਆਂ ਵਾਲਿਓ | 
Mother's Day (13 May 2018 ): ( मातृ दिवस )

Mother's Day



कुछ इतिहासिक तथ्य :

आधुनिकता के दौर में यह एक त्यौहार बन चुका है , किन्तु लोग इसके इतिहास से पूरी तरह से जागरूक नहीं हैं | भारत में यह मई के द्वितीय रविवार को मनाया जाता है | India के साथ - साथ कुल 46 देश इस दिवस को इतिहासिक परिपेक्ष्य से मानते हैं | इनमें से कुछ के नाम हैं | U.K. , China ,India ,U.S. ,Mexico , Denmark, Itali ,Finland ,Canada ,Japan ,Beljium आदि |  यह दिन सर्वप्रथम उत्तरी अमेरिका में बच्चों से माँ के रिश्तों की मजबूती एवं मातृत्व को प्रणाम करने हेतु मनाया जाता है  | U.S.में अनना जारविस (जो कि अविवाहित औरत थी ) अपनी माँ के प्यार और देखरेख से बहुत ही प्रभावित थी ,उसके प्रेम को श्रद्धांजलि देने के लिए सदैव तत्पर रही , माँ की मृत्यु के बाद दुनिया की सभी माताओं को सम्मान और उनके सच्चे प्रेम के प्रतिक रूप में इसे मनाया जाने लगा |  प्राचीन काल में ग्रीक और रोमन के द्वारा इस दिन को मानाने का शुभारम्भ किया | पूर्व के प्राचीन ग्रीक संस्कृति के लोग बसंत ऋतु के आगमन पर अपनी माँ के लिए प्रेम और समर्पण  की भावना को प्रस्तुत करते थे , उनके लिए बसंत का पर्व इसी कारण  विशेष महत्त्व रखता था |
                       इसी प्रकार रोमन संस्कृति  के लोग Hilleriya के नाम से त्यौहार मानते थे ,जो सीबेल (एक देवी माँ का नाम )की आराधना के लिए मनाया जाता था और पूरे तीन दिन तक इसे आयोजित किया जाता | ईसाई मत के लोग ईशु की माँ के सम्मान करने के लिए मई के चतुर्थ रविवार को मानते हैं | England में मातृ दिवस 1600 ई.पूर्व आरम्भ हुआ और मेरी की पूजा  और उन्हें फूलों की श्रद्धांजलि देकर यह त्यौहार मनाया जाता है |

कैसे मनाये :

दुनिया का सबसे दुर्लभ  उपहार माँ , जिसके पास माँ  है और यदि वह उसकी कदर व मूल्य को पहचानता है तो वह दुनिया में सबसे अमीर व्यक्ति है |  माँ को पूरी तरह से खुश रखना चाहिए ,उसके लिए पसंदीदा उपहार भेंट कर सकते हैं | उन्हें कहीं  घूमने के लिए ले जाना चाहिए | साथियो ,माँ का  देन  तो हम कभी नहीं चुका  सकते ,पर उसकी छोटी - छोटी बातों का ध्यान रख कर उन्हें खुश ज़रूर रख सकतें हैं | बुढ़ापे में उनकी सेवा करके उनका बुढ़ापा अवश्य सुखद बना सकतें हैं | 

सभी माताओं को मातृ दिवस पर बधाई | 

................Mother's Day (13 May): ( मातृ दिवस ).............................







Previous
Next Post »

Thanks for your comment. ConversionConversion EmoticonEmoticon